भृगु पत्रिका 1

भृगु पत्रिका की शुरुआत जन्म कुंडली के विस्तृत विश्लेषण से होती है, जो किसी व्यक्ति के जन्म के समय आकाशीय पिंडों की स्थिति का एक नक्शा है। यह चार्ट बारह घरों में विभाजित है, प्रत्येक घर जीवन के विभिन्न पहलुओं का प्रतिनिधित्व करता है।

रिपोर्ट जन्म के समय राशि चक्र के विभिन्न घरों और राशियों में यहाँ की स्थिति के बारे में जानकारी प्रदान करती है। यह जानकारी यह समझने के लिए महत्वपूर्ण है कि विभिन्न यहाँ की ऊर्जाएं व्यक्ति के जीवन के विभिन्न क्षेत्रों को कैसे प्रभावित करती हैं।

पत्रिका में अक्सर दशा प्रणाली का अध्ययन शामिल होता है, जो वैदिक ज्योतिष में जीवन के विभिन्न भृगु पि चरणों और इन अवधियों के दौरान ग्रहों के प्रभावों का विश्लेषण करने के लिए उपयोग की जाने वाली एक विधि है।

रिपोर्ट विशिष्ट योगों (यहाँ के संयोजन) की पहचान कर सकती है जिनका व्यक्ति के जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। यह उन दोषों (पीड़ाओं) को भी उजागर कर सकता है जो चुनौतियाँ पैदा कर सकते हैं और उनके प्रभावों को कम करने के लिए उपाय सुझा सकते हैं।

रिपोर्ट में सकारात्मक ग्रहों के प्रभाव को बढ़ाने और नकारात्मक प्रभावों को कम करने के लिए सुझाए गए उपाय या उपाय शामिल हो सकते हैं। उपायों में रत्न संबंधी सिफारिशें, मंत्र जप, अनुष्ठान और जीवनशैली में बदलाव शामिल हो सकते हैं।

भृगु पत्रिका 2

"भृगु पत्रिका" का उपयोग ज्योतिष शास्त्र में किया जाता है जो किसी व्यक्ति की कुंडली बनाने के लिए होता है। यह कुंडली व्यक्ति के जन्म, स्थान, और समय के आधार पर बनाई जाती है और व्यक्ति के जीवन के विभिन्न पहलुओं को दर्शाने का उद्देश्य होता है।

भृगु संहिता, एक प्राचीन ज्योतिष ग्रंथ, में भृगु ऋषि के द्वारा बताई गई विभिन्न योगों और दोषों की जानकारी होती है जो व्यक्ति की कुंडली में पाई जा सकती है। भृगु पत्रिका इसी सिद्धांत पर आधारित होती है और जातक को उसके जीवन के विभिन्न पहलुओं, जैसे कि करियर, स्वास्थ्य, विवाह, आर्थिक स्थिति, आदि, के बारे में जानकारी प्रदान करती है।

भृगु पत्रिका में ज्योतिषीय गणनाएं और योगों के आधार पर व्यक्ति की स्वभाव, भविष्य, और कठिनाईयों का विश्लेषण किया जाता है। इसमें व्यक्ति के चंगुल, दशा-अंतरदशा, ग्रहों की स्थिति, आदि का विशेष ध्यान रखा जाता है।

ज्योतिष में भृगु पत्रिका का अध्ययन करना एक विशेषज्ञ ज्योतिषी की आवश्यकता होती है, क्योंकि इसमें गहरा और तकनीकी ज्ञान की आवश्यकता होती है। यह ज्योतिषीय विधाओं में से एक है जो ज्योतिषीय गणनाओं और योगों के प्रबंधन के लिए उपयोगी है।